Skip to main content

सर्वजन कल्याण महामहोत्सव १ मार्च को, तैयारियां पूर्ण


उज्जैन। विश्व विख्यात श्री कृष्णगिरी पार्श्व पद्मावती शक्तिपीठाधिपति, राष्ट्रसंत डॉ. वसंतविजयजी महाराज साहेब की पावन मिश्रा में अवंती नगरी उज्जैन में 1 मार्च, रविवार को पहली बार आयोजित हो रहे सर्वजन कल्याण महामहोत्सव की तैयारियां पूर्ण हो गई है। आयोजन को लेकर शहर के सर्व समाज के श्रद्धालुओं में खासा उत्साह देखा जा रहा है। कार्यक्रम उज्जैन के नीलगंगा चौराहा स्थित शिवांजलि गार्डन में दोपहर 1 बजे से प्रारंभ होगा, जिसका सीधा प्रसारण पारस चैनल पर भी होगा। 



उज्जैन के इतिहास में पहली बार सर्व धर्म समाज के लोगों के लिए मंच से राष्ट्रसंत डॉ. वसंतविजयजी महाराज विभिन्न प्रकार की मंत्र शक्तिपात की तरंगों द्वारा श्रोताओं को लाभान्वित करेंगे।



श्री कृष्णगिरी पार्श्व पद्मावती भक्त मंडल उज्जैन के गुरुभक्त शैलेंद्र तल्लेरा ने बताया कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सुविख्यात संतश्री डॉक्टर वसंतविजयजी की दिव्य, चमत्कारिक महामांगलिक श्रवण का अवसर सौभाग्यशाली लोगों को प्राप्त होता है। उन्होंने बताया कि शनिवार दोपहर पूर्व मंत्री एवं विधायक पारस जैन ने आयोजन की विभिन्न व्यवस्थाओं का जायजा लिया तथा उन्होंने शहर के पुलिस एवं प्रशासनिक अधिकारियों को कानून सम्मत विभिन्न व्यवस्थाएं सुचारू रखने के निर्देश भी दिए। तल्लेरा ने बताया कि जैन धर्म के दिगंबर, स्थानकवासी, मूर्तिपूजक एवं तेरापंथ समाज के श्रद्धालुओं ने भी कार्यक्रम में अधिकाधिक संख्या में भागीदारी के साथ आध्यात्मिक क्षेत्र में लाभान्वित होने की अपील की है। उन्होंने बताया कि जैन धर्म ही नहीं सर्व समाज के लोगों को आमंत्रित किया गया है। शैलेंद्र तल्लेरा ने बताया कि कार्यक्रम में विभिन्न धर्म समाजों के प्रमुख पदाधिकारी, ट्रस्टी, महंत आदि भी शामिल होंगे। कार्यक्रम के पश्चात सभी के लिए भोजन प्रसादी की व्यवस्था की गई है। तल्लेरा ने बताया कि आयोजन की विभिन्न व्यवस्थाओं में राजेश जैन, संजय भंडारी, पुरुषोत्तम टेलर, अभिषेक जैन, अक्षत तल्लेरा, राहुल कटारिया, सचिन मुणोत आदि अनेक सेवाभावी कार्यकर्ता जुटे हुए हैं। उन्होंने बताया कि शाम को 8 बजे से संगीतकार दीपक करणपुरिया एंड पार्टी द्वारा भैरव भक्ति संध्या का आयोजन होगा।



नीलगंगा चौराहा स्थित प्राचीन हनुमानजी मंदिर के सामने स्थित शिवांजलि गार्डन में ५० बाय ८० का विशाल डोम तथा ३० बाय ६० का भव्य मंच बनाया गया है। ३० हजार वर्ग फीट का सुसज्जित पंडाल तैयार किया गया है। पांडाल में एक साथ ५ हजार से अधिक श्रद्धालुओं के बैठने व भोजन प्रसादी आदि की व्यवस्थाएँ रहेंगी। १ मार्च की शाम को ही भैरवभक्ति संध्या होगी, जिसमें संगीतकार दीपक करणपुरिया एंड पार्टी के कलाकार प्रस्तुतियाँ देंगे। आयोजन की विभिन्न व्यवस्थाओं में राजेश जैन, संजय जैन मोटर्स, उमंग कोठारी, गजेन्द्र बांठिया, संजय भंडारी, पीयूष चोरड़िया, दिलीप गुप्ता, अनिल जैन ताजपुर, अभिषेक जैन को विभिन्न जिम्मेदारियाँ सौंपी गई हैं।



Bekhabaron Ki Khabar - बेख़बरों की खबर


Bkk News


Bekhabaron Ki Khabar, magazine in Hindi by Radheshyam Chourasiya / Bekhabaron Ki Khabar: Read on mobile & tablets - http://www.readwhere.com/publication/6480/Bekhabaron-ki-khabar



Comments

मध्यप्रदेश खबर

नेशनल न्यूज़

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर हुआ है। राकेश मुख्यतः आधुन

कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति का उत्कृष्ट पुरस्कार

  उज्जैन : मध्यप्रदेश में नई शिक्षा नीति का सर्वप्रथम क्रियान्वयन करने पर जबलपुर में आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार में विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। एनवायरनमेंट एवं सोशल वेलफेयर सोसाइटी, खजुराहो एवं प्राणीशास्त्र एवं जैवप्रौद्योगिकी विभाग, शासकीय विज्ञान स्नातकोत्तर महाविद्यालय, जबलपुर के संयुक्त तत्वाधान में आयोजन दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन जबलपुर में किया गया। इस अवसर पर मध्य प्रदेश में नई शिक्षा नीति के सर्वप्रथम क्रियान्वयन के लिए विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षानीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय की प्रशासनिक कार्यकुशलता से आज विश्वविद्यालय नई शिक्षा का क्रियान्वयन करने वाला प्रदेश का पहला विश्वविद्यालय है। इस उपलब्धि के लिए विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ प्रशांत पुराणिक एवं कुलानुशासक प्रो शैलेन्द्र कुमार शर्मा ने कुलपति प्रो पांडेय के प्रति आभार व्यक्त करते हुए उन्हें हार्दिक

नरेश जिनिंग की जमीन पर मेडिकल कॉलेज खोलने के लिए विधायक श्री पारस चन्द्र जैन ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र

 ■ नरेश जिनिंग की जमीन पर मेडिकल कॉलेज खोलने के लिए विधायक श्री पारस चन्द्र जैन ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र ● विधायक ने उज्जैन जिला कलेक्टर को आवश्यक कार्यवाही करने के लिए लिखा पत्र   उज्जैन । भारत स्काउट एवं गाइड मध्यप्रदेश के राज्य मीडिया प्रभारी राधेश्याम चौऋषिया ने जानकारी देते हुए बताया कि, आज विधायक श्री पारस चन्द्र जैन जी ने मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री जी श्री शिवराज सिंह चौहान को एक पत्र लिखकर उनके द्वारा उज्जैन में मेडिकल कॉलेज खोलने की घोषणा किए जाने पर उज्जैन की जनता की ओर से बहुत बहुत धन्यवाद देकर आभार प्रकट किया गया । मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में विधायक श्री जैन ने लिखा कि, उज्जैन शहर के मध्य आगर रोड़ स्थित नरेश जिनिंग की जमीन को उज्जैन जिला प्रशासन द्वारा हाल ही में  अतिक्रमण से मुक्त करवाया गया है । इस जमीन का उपयोग मेडिकल कॉलेज हेतु किया जा सकता है क्योंकि यह शहर के मध्य स्थित है तथा इसी जमीन के पास अनेक छोटे-बड़े अस्पताल आते हैं । इसी प्रकार विनोद मिल की जमीन भी उक्त मेडिकल कॉलेज हेतु उपयोग की जा सकती हैं क्योंकि इसी जमीन के आसपास उज्जैन का शासकीय जिला चिकित्सालय, प्रसूतिग