Skip to main content

MoUs Exchanged during the State Visit of President of Myanmar

Prime Minister's Office


MoUs Exchanged during the State Visit of President of Myanmar












































































S.No



MoU/Agreement



Signatory (India)



Signatory (Myanmar)



Exchange



1



MoU on Cooperation for Prevention of Trafficking in Persons; Rescue, Recovery, Repatriation and Re-Integration of Victims of Trafficking



HE Shri Saurabh Kumar;
Ambassador of India to Myanmar



HE Moe Kyaw Aung
Ambassador of Myanmar to India



Same as signatories



2



Agreement between the Government of the Republic of India and the Government of the Republic of the Union of Myanmar regarding Indian Grant Assistance for Implementation of Quick Impact Projects (QIP)



HE Shri Saurabh Kumar;
Ambassador of India to Myanmar



HE Moe Kyaw Aung
Ambassador of Myanmar to India



Same as signatories



3



Project Agreement between Rakhine State Government and Embassy of India, Yangon for construction of incinerator in Mrauk Oo township hospital, construction of seed storage houses and water supply systems in Gwa township under Rakhine State Development Programme



HE Shri Saurabh Kumar;
Ambassador of India to Myanmar



HE Moe Kyaw Aung
Ambassador of Myanmar to India



Same as signatories



4



Project Agreement between Rakhine State Government and Embassy of India, Yangon for distribution of electricity by solar power in five townships of Rakhine State under Rakhine State Development Program



HE Shri Saurabh Kumar;
Ambassador of India to Myanmar



HE Moe Kyaw Aung
Ambassador of Myanmar to India



Same as signatories



5



Project Agreement between Rakhine State Government and Embassy of India, Yangon for construction of Kyawlyaung- Ohlphyu road, construction of Kyaung Taung Kyaw Paung road in Buthedaung Township under Rakhine State Development Program



HE Shri Saurabh Kumar;
Ambassador of India to Myanmar



HE Moe Kyaw Aung
Ambassador of Myanmar to India



Same as signatories



6



Project Agreement Between Ministry of Social Welfare, Relief and Resettlement and Embassy of India, Yangon for construction of pre-schools under Rakhine State Development Programme



HE Shri Saurabh Kumar;
Ambassador of India to Myanmar



HE Moe Kyaw Aung
Ambassador of Myanmar to India



Same as signatories



7



MoU for Cooperation on Combating Timber Trafficking, and Conservation of Tigers and other Wildlife



HE Shri Saurabh Kumar;
Ambassador of India to Myanmar



HE Moe Kyaw Aung
Ambassador of Myanmar to India



Same as signatories



8



MoU between India (MoPNG) and Myanmar (Ministry of Electricity & Energy) for cooperation in the field of petroleum products



Shri Sunil Kumar
Joint Secretary
Ministry of Petroleum and Natural Gas
Republic of India



U Than Zaw Director General, Oil & Gas Planning Department, Ministry of Electricity & Energy



Ambassador of India to Myanmar Shri Saurabh Kumar and Ambassador of Myanmar to India Mr. Moe Kyaw Aung



9



MoU between the Ministry of Communications of the Republic of India and the Ministry of Transport & Communications of Myanmar on cooperation in the field of communication



Mr. Anshu Prakash,
Secretary, Department of Telecommunications, Ministry of Communications



H.E Moe Kyaw Aung, Ambassador of Myanmar



Same as signatories



***


Bekhabaron Ki Khabar - बेख़बरों की खबर


Bekhabaron Ki Khabar, magazine in Hindi by Radheshyam Chourasiya / Bekhabaron Ki Khabar: Read on mobile & tablets - http://www.readwhere.com/publication/6480/Bekhabaron-ki-khabar


Comments

मध्यप्रदेश समाचार

देश समाचार

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्

तृतीय पुण्य स्मरण... सादर प्रणाम ।

https://m.facebook.com/story.php?story_fbid=1003309866744766&id=395226780886414 Bekhabaron Ki Khabar - बेख़बरों की खबर Bekhabaron Ki Khabar - बेख़बरों की खबर Bkk News Bekhabaron Ki Khabar, magazine in Hindi by Radheshyam Chourasiya / Bekhabaron Ki Khabar: Read on mobile & tablets -  http://www.readwhere.com/publication/6480/Bekhabaron-ki-khabar

मालवी भाषा और साहित्य : प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा

MALVI BHASHA AUR SAHITYA: PROF. SHAILENDRAKUMAR SHARMA पुस्तक समीक्षा: डॉ श्वेता पंड्या Book Review : Dr. Shweta Pandya  मालवी भाषा एवं साहित्य के इतिहास की नई दिशा  लोक भाषा, लोक साहित्य और संस्कृति का मानव सभ्यता के विकास में अप्रतिम योगदान रहा है। भाषा मानव समुदाय में परस्पर सम्पर्क और अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है। इसी प्रकार क्षेत्र-विशेष की भाषा एवं बोलियों का अपना महत्त्व होता है। भारतीय सभ्यता और संस्कृति से जुड़े विशाल वाङ्मय में मालवा प्रदेश, अपनी मालवी भाषा, साहित्य और संस्कृति के कारण महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। यहाँ की भाषा एवं लोक-संस्कृति ने  अन्य क्षेत्रों पर प्रभाव डालते हुए अपनी विशिष्ट पहचान बनाई है। मालवी भाषा और साहित्य के विशिष्ट विद्वानों में डॉ. शैलेन्द्रकुमार शर्मा का नाम बड़े आदर से लिया जाता है। प्रो. शर्मा हिन्दी आलोचना के आधुनिक परिदृश्य के विशिष्ट समीक्षकों में से एक हैं, जिन्होंने हिन्दी साहित्य की विविध विधाओं के साथ-साथ मालवी भाषा, लोक एवं शिष्ट साहित्य और संस्कृति की परम्परा को आलोचित - विवेचित करने का महत्त्वपूर्ण एवं सार्थक प्रयास किया है। उनकी साहित्य