Skip to main content

परिवहन विभाग की हड़ताल समाप्त-परिवहन मंत्री ने दिया आश्वासन ; परिवहन विभाग के तीनों संघों ने की हड़ताल समाप्ति की घोषणा

परिवहन विभाग की हड़ताल समाप्त-परिवहन मंत्री ने दिया आश्वासन

परिवहन विभाग के तीनों संघों ने की हड़ताल समाप्ति की घोषणा 

भोपाल : गुरूवार, अप्रैल 8, 2021

परिवहन विभाग के अधिकारियों एवं कर्मचारियों की अनिश्चित कालीन हड़ताल आज गुरूवार को परिवहन मंत्री श्री गोविन्द सिंह राजपूत से दूरभाष पर चर्चा उपरांत समाप्त हो गई है। परिवहन मंत्री श्री राजपूत ने बताया कि मध्यप्रदेश परिवहन (राजपत्रित) अधिकारी संघ के अध्यक्ष श्री जितेन्द्र सिंह रघुवंशी द्वारा विभागीय माँगों के संबंध में उन्हें अवगत कराया गया था। उन्होंने अपर मुख्य सचिव श्री एस.एन. मिश्रा को उनकी माँगों के संबंध में शीघ्र निराकरण के लिए प्रस्ताव प्रस्तुत करने के निर्देश दिये हैं।

परिवहन विभाग के अधिकारियों को न्यायाधीश संरक्षण अधिनियम के तहत शामिल किये जाने, वेतन विसंगति, विभाग के लिपिकों को विभागीय परीक्षा के माध्यम से उप निरीक्षक के पद पर पदोन्नति, पुलिस विभाग की तरह परिवहन विभाग के अधिकारियों के पदनाम परिवर्तन, आर.टी.ओ. ऑफिस में लिपिक/प्रवर्तन अमले की शीघ्र पदस्थापना, गुमनाम एवं निराधार शिकायतों पर विचार नहीं किये जाने एवं इस प्रकार की चल रही शिकायतों का शीघ्र परीक्षण करवाने, वाहन दुर्घटना के प्रकरणों में जाँच के उपरांत ही विभागीय व्यक्ति पर कार्यवाई किये जाने एवं टीकमगढ़ परिवहन अधिकारी/लिपिक के विरूद्ध दर्ज प्रकरण की पुन: जाँच वरिष्ठ अधिकारियों से कराने और विभागीय मैन्युअल शीघ्र बनाये जाने के संबंध में परिवहन मंत्री श्री राजपूत ने शीघ्र कार्यवाही किये जाने का आश्वासन दिया है।

मंत्री श्री राजपूत वर्तमान में कोरोनो पॉजिटिव होने के कारण अस्पताल में इलाजरत हैं। उन्होंने कहा कि सरकार, अधिकारी-कर्मचारी एवं आमजन सभी कोरोना संक्रमण से फैली अव्यवस्था को सुचारू रूप से सक्रिय करने के लिए प्रयासरत हैं। इस स्थिति में अधिकारी एवं कर्मचारियों की समस्याओं का निराकरण भी महत्वपूर्ण है।

मध्यप्रदेश परिवहन प्रवर्तन अधिकारी-कर्मचारी संगठन के अध्यक्ष श्री जगदीश सिंह मीणा एवं आर.टी.ओ भोपाल एवं मध्यप्रदेश राजपत्रित अधिकारी संगठन महा सचिव श्री संजय तिवारी ने संघ की ओर से परिवहन मंत्री श्री राजपूत का धन्यवाद ज्ञापित करते हुए कहा कि उनके प्रयासों से अधिकारी एवं कर्मचारियों की बहुप्रतिक्षित माँगे पूरी होंगी। परिवहन विभाग तृतीय वर्ग कर्मचारी संगठन के अध्यक्ष श्री श्याम यादव ने परिवहन मंत्री का धन्यवाद किया।

Comments

मध्यप्रदेश खबर

नेशनल न्यूज़

Popular posts from this blog

कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति का उत्कृष्ट पुरस्कार

  उज्जैन : मध्यप्रदेश में नई शिक्षा नीति का सर्वप्रथम क्रियान्वयन करने पर जबलपुर में आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार में विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। एनवायरनमेंट एवं सोशल वेलफेयर सोसाइटी, खजुराहो एवं प्राणीशास्त्र एवं जैवप्रौद्योगिकी विभाग, शासकीय विज्ञान स्नातकोत्तर महाविद्यालय, जबलपुर के संयुक्त तत्वाधान में आयोजन दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन जबलपुर में किया गया। इस अवसर पर मध्य प्रदेश में नई शिक्षा नीति के सर्वप्रथम क्रियान्वयन के लिए विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षानीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय की प्रशासनिक कार्यकुशलता से आज विश्वविद्यालय नई शिक्षा का क्रियान्वयन करने वाला प्रदेश का पहला विश्वविद्यालय है। इस उपलब्धि के लिए विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ प्रशांत पुराणिक एवं कुलानुशासक प्रो शैलेन्द्र कुमार शर्मा ने कुलपति प्रो पांडेय के प्रति आभार व्यक्त करते हुए उन्हें हार्दिक

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर हुआ है। राकेश मुख्यतः आधुन

नरेश जिनिंग की जमीन पर मेडिकल कॉलेज खोलने के लिए विधायक श्री पारस चन्द्र जैन ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र

 ■ नरेश जिनिंग की जमीन पर मेडिकल कॉलेज खोलने के लिए विधायक श्री पारस चन्द्र जैन ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र ● विधायक ने उज्जैन जिला कलेक्टर को आवश्यक कार्यवाही करने के लिए लिखा पत्र   उज्जैन । भारत स्काउट एवं गाइड मध्यप्रदेश के राज्य मीडिया प्रभारी राधेश्याम चौऋषिया ने जानकारी देते हुए बताया कि, आज विधायक श्री पारस चन्द्र जैन जी ने मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री जी श्री शिवराज सिंह चौहान को एक पत्र लिखकर उनके द्वारा उज्जैन में मेडिकल कॉलेज खोलने की घोषणा किए जाने पर उज्जैन की जनता की ओर से बहुत बहुत धन्यवाद देकर आभार प्रकट किया गया । मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में विधायक श्री जैन ने लिखा कि, उज्जैन शहर के मध्य आगर रोड़ स्थित नरेश जिनिंग की जमीन को उज्जैन जिला प्रशासन द्वारा हाल ही में  अतिक्रमण से मुक्त करवाया गया है । इस जमीन का उपयोग मेडिकल कॉलेज हेतु किया जा सकता है क्योंकि यह शहर के मध्य स्थित है तथा इसी जमीन के पास अनेक छोटे-बड़े अस्पताल आते हैं । इसी प्रकार विनोद मिल की जमीन भी उक्त मेडिकल कॉलेज हेतु उपयोग की जा सकती हैं क्योंकि इसी जमीन के आसपास उज्जैन का शासकीय जिला चिकित्सालय, प्रसूतिग