Skip to main content

जनजातीय भाषाओं के विकास और समन्वय में देवनागरी लिपि की भूमिका महत्त्वपूर्ण है - प्रो. शर्मा ; देवनागरी लिपि : जनजातीय भाषाएं और सूचना प्रौद्योगिकी पर केंद्रित राष्ट्रीय संगोष्ठी संपन्न

जनजातीय भाषाओं के विकास और समन्वय में देवनागरी लिपि की भूमिका महत्त्वपूर्ण है -  प्रो. शर्मा

देवनागरी लिपि  : जनजातीय भाषाएं और सूचना प्रौद्योगिकी पर केंद्रित राष्ट्रीय संगोष्ठी संपन्न


देश की प्रतिष्ठित संस्था नागरी लिपि परिषद, नई दिल्ली द्वारा भोज शोध संस्थान, धार के सहयोग से राष्ट्रीय शोध संगोष्ठी का आयोजन किया गया। यह संगोष्ठी देवनागरी लिपि : जनजातीय भाषाएं और सूचना प्रौद्योगिकी पर केंद्रित थी। कार्यक्रम का शुभारंभ विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलानुशासक प्रो शैलेन्द्र कुमार शर्मा, मुख्य अतिथि डॉ ज्योति सिंह, प्राध्यापिका, इंदौर, विशेष अतिथि डॉ प्रभु चौधरी, श्री सुंदरलाल जोशी, नागदा, श्रीमती सीमा मिश्र असीम, धार और कार्यक्रम अध्यक्ष श्री जयंत जोशी ने सरस्वती पूजन करते हुए किया। 


अपने उद्बोधन में मुख्य वक्ता विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कला संकायाध्यक्ष प्रो शैलेन्द्र कुमार शर्मा ने कहा कि सदियों से देवनागरी और अन्य लिपियाँ भाषा की वाचिक क्षणिकता को लिखित शाश्वतता में बदलने में विशिष्ट भूमिका निभा रही हैं।  सैंधव, ब्राह्मी और देवनागरी लिपि विश्व सभ्यता को भारत की अनुपम देन हैं। विभिन्न भाषाओं और संस्कृतियों को जोड़ने में देवनागरी लिपि की अविस्मरणीय भूमिका है। भारत में प्रचलित चार प्रवर्गों में विभक्त जनजातीय भाषाओं के संवर्धन, उनके बीच आपसी संवाद और समन्वय में देवनागरी लिपि महत्वपूर्ण योगदान दे रही है। आज आवश्यकता है कि हम भीली, गोंडी, भिलाली, बारेली, बैगा, कोरकू, संथाली जैसी जनजातीय भाषाओं को नागरी लिपि में लिपिबद्ध कर आगे बढ़ाएं और सूचना प्रौद्योगिकी के माध्यम से उन्हें जन-जन तक पहुँचाएँ। अगर हम गुलाम नहीं होते तो सहज ग्राह्य शब्द आज भी उसी रूप में होते। रोमन लिपि के कारण देश की विभिन्न भाषाओं के अनेक शब्दों में बदलाव आ गया है। लिपि और भाषाएं एक दूसरे की पूरक हैं। लिपियां खत्म हुई तो भाषाओं और बोलियों के अस्तित्व पर संकट आ सकता है। देवनागरी लिपि ने देश – दुनिया की अनेक  भाषाओं को समृद्ध किया है। 

मुख्य अतिथि डॉ ज्योति सिंह, इंदौर ने कहा कि विश्व नागरिक बनने के लिए हमें अपनी भाषाओं और देवनागरी को लेकर आगे बढ़ना होगा। वाचिक परंपरा को स्थाई रूप देने के लिए लिपि अद्वितीय साधन है। भिलाली भाषा को देवनागरी के माध्यम से लिपिबद्ध करने के प्रयास अनेक दशकों से जारी हैं। वैश्वीकरण आत्मनिर्भर बनाने के लिए प्रेरित करता है, वहीं दूसरी ओर तेजी से बढ़ता बाजारीकरण नुकसान पहुंचा रहा है। 


संगोष्ठी की अध्यक्षता करते हुए शिक्षाविद श्री जयंत जोशी ने कहा कि देवनागरी वर्णमाला अत्यंत वैज्ञानिक है। देवनागरी लिपि के मानकीकरण की दिशा में महत्वपूर्ण कार्य हुआ है। पाठ्य पुस्तकों में देवनागरी के मानक रूप और शुद्ध वर्तनी के लिए व्यापक सजगता की आवश्यकता है।


विशेष अतिथि नागरी लिपि परिषद, नई दिल्ली के  प्रदेश संयोजक डॉ प्रभु चौधरी ने नागरी लिपि परिषद के उद्देश्यों और गतिविधियों का परिचय देते हुए कहा कि वर्तमान में देवनागरी लिपि के प्रति संचेतना जाग्रत करने की आवश्यकता है। हिंदी के साथ देवनागरी लिपि के प्रसार के लिए निरंतर प्रयास होने चाहिए।


प्रास्ताविक वक्तव्य में भोज शोध संस्थान, धार के निदेशक डॉ दीपेंद्र शर्मा ने कहा कि धार नगरी प्राचीन युग से कला मनीषियों की नगरी रही है। भाषा को स्थिरता देने के लिए लिपि की आवश्यकता होती है। देवनागरी लिपि की दीर्घकालीन उपादेयता रही है। 


विशिष्ट अतिथि श्रीमती सीमा मिश्र असीम, धार ने कहा कि देवनागरी लिपि में लेखन करते हुए भ्रम और त्रुटि होने की संभावना बहुत कम होती है। प्राथमिक शिक्षा के स्तर से ही देवनागरी लिपि को लेकर सजगता लानी होगी। 


कार्यक्रम में अतिथियों द्वारा नागरी लिपि परिषद के संयुक्त सचिव, समालोचक एवं लिपि विशेषज्ञ प्रोफेसर शैलेंद्र कुमार शर्मा को सम्मान पत्र अर्पित करते हुए उनका सारस्वत सम्मान किया गया।


सरस्वती वंदना कैलाश बंसल ने प्रस्तुत की। स्वागत गीत वरिष्ठ कवि श्री सुंदर लाल जोशी सूरज नागदा ने प्रस्तुत किया।

स्वागत भाषण डॉ दीपेंद्र शर्मा ने और आभार राम शर्मा परिंदा, मनावर ने जताया। संचालन श्रीमती अर्पणा जोशी, इंदौर ने किया। 

राष्ट्रीय शिक्षक संचेतना के सहयोग से आयोजित इस संगोष्ठी में शामिल संस्कृतिकर्मियों और साहित्यकारों को प्रतिभागिता प्रमाण पत्र प्रदान किया गया। 

कार्यक्रम में डॉ श्रीकांत द्विवेदी, नंदकिशोर उपाध्याय, कृष्ण कुमार दुबे, दुर्गेश नागर दंश, मुकेश मेहता, हरिहरदत्त शुक्ल, ईश्वर दुबे नकोई, शशिभूषण वैष्णव, सूर्यकांत बोरदिया, शोभाराम वास्केल, प्रकाश वर्मा, अनीता शर्मा, सलोनी राठौर, मनोज जांगड़े, मनीषा खेड़ेकर, दीपेंद्र पाठक, पराग भोंसले आदि सहित अनेक संस्कृतिकर्मी एवं प्रबुद्धजन उपस्थित थे।


Comments

मध्यप्रदेश खबर

नेशनल न्यूज़

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य

कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति का उत्कृष्ट पुरस्कार

  उज्जैन : मध्यप्रदेश में नई शिक्षा नीति का सर्वप्रथम क्रियान्वयन करने पर जबलपुर में आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार में विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। एनवायरनमेंट एवं सोशल वेलफेयर सोसाइटी, खजुराहो एवं प्राणीशास्त्र एवं जैवप्रौद्योगिकी विभाग, शासकीय विज्ञान स्नातकोत्तर महाविद्यालय, जबलपुर के संयुक्त तत्वाधान में आयोजन दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन जबलपुर में किया गया। इस अवसर पर मध्य प्रदेश में नई शिक्षा नीति के सर्वप्रथम क्रियान्वयन के लिए विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षानीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय की प्रशासनिक कार्यकुशलता से आज विश्वविद्यालय नई शिक्षा का क्रियान्वयन करने वाला प्रदेश का पहला विश्वविद्यालय है। इस उपलब्धि के लिए विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ प्रशांत पुराणिक एवं कुलानुशासक प्रो शैलेन्द्र कुमार शर्मा ने कुलपति प्रो पांडेय के प्रति आभार व्यक्त करते हुए उन्हें हार्दिक