Skip to main content

जाने श्री चिंतामण गणेश मंदिर, उज्जैन के बारे में

श्री चिंतामण गणेश मंदिर, उज्जैन


🕉️🕉️🌿🌿🌿🌿🌿🕉️🕉️



श्री चिंतामण गणेश मंदिर, उज्जैन के तीर्थ स्थलों में एक महत्वपूर्ण स्थान रखता है । उज्जैन के मुख्य रेलवे स्टेशन से करीब 8 किलोमीटर दूर भगवान श्री गणेश जी का यह मंदिर फतेहाबाद रेलवे लाइन के समीप स्थित है । श्री चिंतामण गणेश मंदिर में भगवान श्री गणेश के तीन रूप एक साथ विराजमान है, जो श्री चिंतामण गणेश, श्री इच्छामण गणेश जी और श्री सिद्धिविनायक गणेश जी के रूप में जाने जाते है। श्री चिंताहरण गणेश जी की ऐसी अद्भूत और अलौकिक प्रतिमा देश में शायद ही कहीं होगी। श्री चिंतामणी गणेश चिंताओं को दूर करते हैं, श्री इच्छामणी गणेश इच्छाओं को पूर्ण करते हैं और श्री सिद्धिविनायक रिद्धि-सिद्धि देते हैं। इसी वजह से दूर-दूर से भक्त यहां खिंचे चले आते हैं।



स्वयं-भू स्थली के नाम से विख्यात चिंतामण गणपति की स्थापना के बारे में कई कहानियां प्रचलित है। ऐसा माना जाता है कि, राजा दशरथ के उज्जैन में पिण्डदान के दौरान भगवान श्री रामचन्द्र जी ने यहां आकर पूजा अर्चना की थी। सतयुग में राम, लक्ष्मण और सीता माँ वनवास पर थे तब वे घूमते-घूमते यहां पर आये तब सीता माँ को बहुत प्यास लगी । लक्ष्मण जी ने अपना तीर इस स्थान पर मारा जिससे पृथ्वी में से पानी निकला और यहां एक बावडी बन गई। माता सीता ने इसी जल से अपना उपवास खोला था। तभी भगवान राम ने चिंतामण, लक्ष्मण ने इच्छामण एवं सिद्धिविनायक की पूजा अर्चना की थी।



मंदिर के सामने ही आज भी वह बावडी मौजूद है। जहां पर दर्शनार्थी दर्शन करते है। इस मंदिर का वर्तमान स्वरूप महारानी अहिल्याबाई द्वारा करीब 250 वर्ष पूर्व बनाया गया था। इससे भी पूर्व परमार काल में भी इस मंदिर का जिर्णोद्धार हो चुका है। यह मंदिर जिन खंबों पर टिका हुआ है वह परमार कालीन हैं।



देश के कोने-कोने से भक्त यहां दर्शन करने आते है। यहां पर भक्त, गणेश जी के दर्शन कर मंदिर के पीछे उल्टा स्वास्तिक बनाकर मनोकामना मांगते है और जब उनकी मनोकामना पूर्ण हो जाती है तो वह पुनः दर्शन करने आते है और मंदिर के पीछे सीधा स्वास्तिक बनाते है। कई भक्त यहां रक्षा सूत्र बांधते है और मनोकामना पूर्ण होने पर रक्षा सूत्र छोडने आते है।



उज्जैन के मालवा क्षेत्र में सैंकडो वर्षों से परम्परा चली आ रही कि जो भी कोई शादी करता है तो उसके परिजन लग्न यहां लिखवाने आते है और शादी के बाद पति-पत्नी दोनों ही यहां आकर दर्शन करते है और वो लग्न यहां चिंतामण जी के चरणों में छोड़कर जाते है। दोनों पति-पत्नी चिंतामण गणेश जी से प्रार्थना करते है कि हमारी सारी चिंताओं को दूर कर हमे सुखी जीवन प्रदान करना।



गणेश चतुर्थी के अवसर पर श्री चिंतामण गणेश मंदिर में बड़ी संख्या में श्रद्धालुगण भगवान श्री गणेश जी के दर्शन करने आते है। रक्षाबंधन के अवसर पर श्रद्धालुगण ( महिलाऐं ) बड़ी संख्या में अपनी राखियाँ भगवान श्री गणेश जी को भेट करती है । किसी भी धार्मिक आयोजन, शुभकार्य, विवाह इत्यादि का प्रथम निमंत्रण भगवान श्री चिंतामण गणेश जी को ही दिया जाता है ।



◆ चैत्रमास की जत्रा


प्रथम पूज्य श्री गणेश भगवान को धन्यवाद देने के लिए इस पावन पर्व का आयोजन किया जाता है। जत्रा की शुरुआत चैत्र मास के बुधवार से होती हैं । जो इस महीने के प्रति बुधवार को मनाया जाता है । आसपास के ग्रामीण इलाकों के किसान मंदिर में दर्शन के लिए आते हैं। अब जत्रा की इस परंपरा में अब किसानेां के साथ साथ आम लोग भी इसमें शामिल हो गए हैं।



जत्रा के समय चिंतामण के अलावा अन्य गणेश मंदिरों में जत्रा की धूम रहती है। श्री गजानन भगवान का इस दिन विशेष श्रृंगार किया जाता है। मंदिर के प्रांगण की सजावट बहुत ही आकर्षित तरीके की की जाती है । दुकाने सजी हुई होती हैं तथा भक्त व श्रद्धालु जन जत्रा को लेकर बहुत उत्साहित नजर आते हैं । चारों ओर लोगों की चहल पहल दिखाई पड़ती है।



इस उत्सव के दौरान भगवान को विशेष भोग भी लगाया जाता है। लोग मंदिरों में अपनी मान्यता पूरी होने पर क्विटलों से भोग लगाते हैं। इसमें लोंगो द्वारा दान पुण्य भी किया जाता है। चैत्र माह के आखिरी बुधवार को इसका समापन हो जाता है।



◆ तिल महोत्सव


मकर संक्रांति पर पतंग के साथ तिल्ली का भी महत्व है और पौराणिक मान्यता के अनुसार भगवान श्री गणेश की माघ मास में तिल चतुर्थी पर तिल्ली का भोग लगाने का महत्व है|महिलाएं इस दिन व्रत करती है| और श्री चिंतामण गणेश जी को तिल्ली का भोग लगाती है| समय के अनुसार तिल्ली चतुर्थी पर अब श्री चिंतामण गणेश मंदिर पर भव्य आयोजन होने लगा और सवा लाख लड्डूओं का महाभोग लगने लगा है| उज्जैन के साथ आस पास के लोग भी हजारो की संख्या में आने लगे और अब चतुर्थी पर भव्य तिल मेले के साथ भक्तो एवं ग्रामवासी के सहयोग से फरियाली खिचड़ी , दूध, जलेबी , हलवे की व्यवस्था इस दिन भक्तो के लिए रहती है| तिल चतुर्थी पर दर्शन मात्र से ही सभी भक्त चिंता से मुक्त रहते है|



● कैसे पहंचे :


- निकटतम रेल्वे स्टेशन यहाँ से करीब 8 किलोमीटर दूर है|


- निकटतम बस स्टेशन यहाँ से करीब 8 किलोमीटर दूर है|


- निकटतम हवाई अड्डा इंदौर यहां से करीब 60 किलोमीटर दूर है।


- ठहरने के लिए उज्जैन नगर में होटल और धर्मशालाएं भी पर्याप्त मात्रा में मौजूद हैं।


 


✍ शुभम चौऋषिया


Comments

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

मालवी भाषा और साहित्य : प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा

MALVI BHASHA AUR SAHITYA: PROF. SHAILENDRAKUMAR SHARMA पुस्तक समीक्षा: डॉ श्वेता पंड्या Book Review : Dr. Shweta Pandya  मालवी भाषा एवं साहित्य के इतिहास की नई दिशा  लोक भाषा, लोक साहित्य और संस्कृति का मानव सभ्यता के विकास में अप्रतिम योगदान रहा है। भाषा मानव समुदाय में परस्पर सम्पर्क और अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है। इसी प्रकार क्षेत्र-विशेष की भाषा एवं बोलियों का अपना महत्त्व होता है। भारतीय सभ्यता और संस्कृति से जुड़े विशाल वाङ्मय में मालवा प्रदेश, अपनी मालवी भाषा, साहित्य और संस्कृति के कारण महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। यहाँ की भाषा एवं लोक-संस्कृति ने  अन्य क्षेत्रों पर प्रभाव डालते हुए अपनी विशिष्ट पहचान बनाई है। मालवी भाषा और साहित्य के विशिष्ट विद्वानों में डॉ. शैलेन्द्रकुमार शर्मा का नाम बड़े आदर से लिया जाता है। प्रो. शर्मा हिन्दी आलोचना के आधुनिक परिदृश्य के विशिष्ट समीक्षकों में से एक हैं, जिन्होंने हिन्दी साहित्य की विविध विधाओं के साथ-साथ मालवी भाषा, लोक एवं शिष्ट साहित्य और संस्कृति की परम्परा को आलोचित - विवेचित करने का महत्त्वपूर्ण एवं सार्थक प्रयास किया है। उनकी साह

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य