Skip to main content

ठीक हुए लोगों की संख्या करीब 11 लाख हुई, पिछले 24 घंटों में 36,500 से ज्यादा लोग ठीक हुए, देश में वर्तमान में 5,65,103 सक्रिय मामलें


पहले लॉकडाउन के बाद से भारत में कोरोना के मामलों में मृत्यु दर (सीएफआर) सबसे कम 2.15 प्रतिशत हुई

ठीक हुए लोगों की संख्या करीब 11 लाख हुई

पिछले 24 घंटों में 36,500 से ज्यादा लोग ठीक हुए




Date: 01 AUG 2020 2:43PM Delhi

 

भारत वैश्विक स्तर पर कोविड-19 की सबसे कम मृत्यु दर दर्ज करने और उसे बनाए रखने में लगातार सफल रहा है। आज देश में कोरोना के मामलों में मृत्यु दर 2.15 प्रतिशत है और यह पहले लॉकडाउन की शुरुआत के बाद से सबसे कम है। जून के मध्य में यह लगभग 3.33 प्रतिशत थी जिसमें लगातार गिरावट आ रही है।


यह केंद्र के साथ-साथ राज्य/ केंद्र शासित प्रदेश सरकारों की "जांच, खोज, उपचार" के लिए समन्वित, पूर्व-निर्धारित, वर्गीकृत और विकसित रणनीति और प्रयासों को दर्शाता है।  अस्पताल के बुनियादी ढांचे को बढ़ावा देने के साथ-साथ त्वरित परीक्षण ने कोविड-19 के रोगियों की शीघ्र पहचान और गंभीर रोगियों की पहचान को सक्षम बनाया है जिससे मृत्यु की संख्या में कमी आई है।



सीएफआर की दर को कम रखने के साथ-साथ, कंटेनमेंट रणनीति के सफल कार्यान्वयन, त्वरित परीक्षण और व्यापक देखभाल दृष्टिकोण के आधार पर मानकीकृत नैदानिक प्रबंधन प्रोटोकॉल के परिणामस्वरूप, ठीक होने वालों की संख्या 30,000/दिन के स्तर पर लगातार बनी हुई है।


अब ठीक हुए लोगों की कुल संख्या करीब 11 लाख हो गई है। पिछले 24 घंटों में 36,569 रोगियों को अस्पताल से छुट्टी दिए जाने के साथ ही, ठीक हुए लोगों की संख्या 10,94,374 तक पहुंच गई है। कोविड-19 रोगियों के बीच ठीक होने की दर 64.53 प्रतिशत है।


ठीक होने वालों की संख्या में इस प्रकार की लगातार वृद्धि के साथ, कोविड-19 से ठीक हुए मामलों और सक्रिय मामलों के बीच का अंतर वर्तमान में 5,29,271 हो गया है। सभी सक्रिय मामलों (5,65,103) को चिकित्सा निगरानी के अंतर्गत रखा गया हैं।


निर्बाध रोगी प्रबंधन के साथ-साथ तीन-स्तरीय अस्पताल अवसंरचना ने तीव्र गति से गंभीर रोगी की पहचान और उपचार सुनिश्चित किया है। वर्तमान में, 2,49,358 आइसोलेशन बेड, 31,639 आईसीयू बेड और 1,09,119 ऑक्सीजन समर्थित बेड, 16,678 वेंटिलेटर के साथ 1,448 कोविड समर्पित अस्पताल काम कर रहे हैं। 2,07,239 आइसोलेशन बेड, 18,613 आईसीयू बेड और 74,130 ऑक्सीजन समर्थित बेड और 6,668 वेंटिलेटर के साथ 3,231 समर्पित कोविड स्वास्थ्य केंद्र भी चालू किए गए हैं। इसके अलावा, देश में कोविड-19 का मुकाबला करने के लिए 10,02,681 बिस्तरों के साथ 10,755 कोविड केयर सेंटर भी उपलब्ध हैं। केंद्र ने राज्यों/ केंद्र शासित प्रदेशों और केंद्रीय संस्थानों को 273.85 लाख एन95 मास्क और 121.5 लाख जीवन रक्षक उपकरण (पीपीई) और 1083.77 लाख एचसीक्यू की टैबलेट भी प्रदान की हैं।


कोविड-19 से संबंधित तकनीकी मुद्दों, दिशा-निर्देशों और सलाहों के बारे में सभी प्रामाणिक और अद्यतन जानकारी के लिए, नियमित रूप से देखें: https://www.mohfw.gov.in/ और @MoHFW_INDIA                


कोविड-19 से संबंधित तकनीकी प्रश्नों को technicalquery.covid19@gov.in पर और अन्य प्रश्नों को ncov2019@gov.in पर ई-मेल और @CovidIndiaSeva पर पूछा जा सकता है।


कोविड-19 से संबंधित किसी भी जानकारी के लिए स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के हेल्पलाइन नंबर- : +91-11-23978046 or 1075 (टोल फ्री) पर कॉल करें।


कोविड-19 पर राज्यों/ केंद्र शासित प्रदेशों के हेल्पलाइन नंबरों की सूची https://www.mohfw.gov.in/pdf/coronvavirushelplinenumber.pdf पर उपलब्ध है।


Bkk News


Bekhabaron Ki Khabar - बेख़बरों की खबर


Bekhabaron Ki Khabar, magazine in Hindi by Radheshyam Chourasiya / Bekhabaron Ki Khabar: Read on mobile & tablets - http://www.readwhere.com/publication/6480/Bekhabaron-ki-khabar


Comments

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य

मालवी भाषा और साहित्य : प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा

MALVI BHASHA AUR SAHITYA: PROF. SHAILENDRAKUMAR SHARMA पुस्तक समीक्षा: डॉ श्वेता पंड्या Book Review : Dr. Shweta Pandya  मालवी भाषा एवं साहित्य के इतिहास की नई दिशा  लोक भाषा, लोक साहित्य और संस्कृति का मानव सभ्यता के विकास में अप्रतिम योगदान रहा है। भाषा मानव समुदाय में परस्पर सम्पर्क और अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है। इसी प्रकार क्षेत्र-विशेष की भाषा एवं बोलियों का अपना महत्त्व होता है। भारतीय सभ्यता और संस्कृति से जुड़े विशाल वाङ्मय में मालवा प्रदेश, अपनी मालवी भाषा, साहित्य और संस्कृति के कारण महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। यहाँ की भाषा एवं लोक-संस्कृति ने  अन्य क्षेत्रों पर प्रभाव डालते हुए अपनी विशिष्ट पहचान बनाई है। मालवी भाषा और साहित्य के विशिष्ट विद्वानों में डॉ. शैलेन्द्रकुमार शर्मा का नाम बड़े आदर से लिया जाता है। प्रो. शर्मा हिन्दी आलोचना के आधुनिक परिदृश्य के विशिष्ट समीक्षकों में से एक हैं, जिन्होंने हिन्दी साहित्य की विविध विधाओं के साथ-साथ मालवी भाषा, लोक एवं शिष्ट साहित्य और संस्कृति की परम्परा को आलोचित - विवेचित करने का महत्त्वपूर्ण एवं सार्थक प्रयास किया है। उनकी साह