Skip to main content

सीधे मन्दिर पहुंचने पर दर्शन नहीं हो पायेंगे ; मात्र प्रीबुकिंग के आधार पर मन्दिर में प्रवेश होगा ; 8 जून से दशनार्थियों के लिये खोला जायेगा श्री महाकालेश्वर मन्दिर ; दर्शन 3 स्लॉट में होंगे


कलेक्टर श्री सिंह की अध्यक्षता में मन्दिर प्रबंध समिति की बैठक सम्पन्न


उज्जैन 06 जून। कलेक्टर एवं श्री महाकालेश्वर मन्दिर प्रबंध समिति के अध्यक्ष श्री आशीष सिंह ने शनिवार 6 जून को महाकाल मन्दिर प्रबंध समिति के प्रशासक कार्यालय के सभाकक्ष में श्री महाकालेश्वर मन्दिर प्रबंध समिति की बैठक ली। बैठक में निर्णय लिया गया कि भारत सरकार के गृह मंत्रालय की गाईड लाइन का पालन करते हुए विश्व प्रसिद्ध श्री महाकालेश्वर मन्दिर में मात्र प्रीबुकिंग के आधार पर मन्दिर में दर्शन हेतु प्रवेश दिया जायेगा। सीधे मन्दिर पहुंचने पर दर्शन नहीं हो पायेंगे। प्रीबुकिंग करने पर दर्शन नन्दी गृह के पीछे बेरिकेटिंग से होंगे। कोरोना महामारी से निर्मित स्थिति को दृष्टिगत रखते हुए विगत 21 मार्च से मन्दिर में दर्शनार्थियों का प्रवेश रोक दिया गया था। मन्दिर में दर्शनार्थियों के लिये तीन स्लॉट में प्रवेश दिया जायेगा।


एंड्राइड फोन पर प्रीबुकिंग के आधार पर दर्शन होंगे


बैठक में समिति ने निर्णय लिया कि एंड्राइड मोबाइल के माध्यम से एक दिन पूर्व दर्शनार्थी बुकिंग करायेंगे। बुकिंग के अगले दिन मन्दिर में प्रवेश दिया जायेगा। जो दर्शनार्थी एंड्राइड मोबाइल एप से बुकिंग नहीं कर सकते हैं वे टोलफ्री नम्बर 18002331008 पर बुकिंग कर अगले दिन मन्दिर में प्रवेश कर सकेंगे। इन दोनों प्रक्रिया से भी यदि दर्शनार्थी बुकिंग नहीं कर सकते हों तो वे मन्दिर के काउंटर पर दर्शन के लिये बुकिंग करा सकते हैं और उनको अगले एक या दो दिन में मन्दिर में प्रवेश की अनुमति दी जायेगी। एक मोबाइल के माध्यम से सप्ताह में एक ही बार 1+4 श्रद्धालु बुकिंग कर सकेंगे। इसी तरह टोलफ्री नम्बर के माध्यम से भी एक दिवस पूर्व बुकिंग कर सकेंगे। इसके लिये मन्दिर के कंट्रोल रूम में ऑपरेटर बुकिंग हेतु तैनात रहेंगे, जो दर्शनार्थियों से बात कर उनकी बुकिंग करेंगे। इसी तरह काउंटर के माध्यम से एक दिवस पूर्व ही टिकिट बुकिंग कर श्रद्धालु मन्दिर में प्रवेश कर सकेंगे। श्रद्धालु को मैसेज प्राप्त होने पर मैसेज में तय दिनांक एवं टाईम स्लॉट अनुसार श्रद्धालु दर्शन हेतु आ सकेंगे। इसमें एक क्यूआर कोड भी रहेगा।


महाकाल मन्दिर में दर्शन का समय


बैठक में निर्णय लिया गया कि श्री महाकालेश्वर मन्दिर में दर्शनार्थियों को दर्शन सोमवार 8 जून से प्रारम्भ होगा। दर्शन तीन स्लॉट में होंगे। पहले स्लॉट का समय प्रात: 8 बजे से 10 बजे तक, दूसरे स्लॉट में प्रात: 11 बजे से दोपहर एक बजे तक और तीसरे स्लॉट में दोपहर 2 बजे से शाम 6 बजे तक दर्शन होंगे। तीनों स्लॉट के बीच के समय में सेनीटाइजेशन किया जायेगा। शाम 6 बजे से 7 बजे तक साफ-सफाई आदि करने के बाद दर्शनार्थियों के लिये प्रवेश बन्द कर दिया जायेगा।



गर्भगृह में प्रवेश प्रतिबंधित रहेगा


बैठक में बताया गया कि श्री महाकालेश्वर मन्दिर में श्रद्धालुओं के लिये गर्भगृह में प्रवेश पूर्णत: प्रतिबंधित रहेगा। कोरोना महामारी को दृष्टिगत रखते हुए सोशल डिस्टेंसिंग का पालन अनिवार्य होगा। मन्दिर में पूजन-सामग्री, जल, प्रसाद, अभिषेक, पूजन, कलावा, तिलक पर प्रतिबंध रहेगा। श्री महाकालेश्वर मन्दिर परिसर में स्थित मन्दिरों में श्रद्धालुओं के लिये दर्शन प्रतिबंधित रहेगा। अन्नक्षेत्र एवं धर्मशाला बन्द रहेगी।


थर्मल स्क्रीनिंग मशीन से स्क्रीनिंग होगी


मन्दिर में प्रवेश के समय मुख्य प्रवेश द्वार के सामने ही फुट सेनीटाइजेशन मशीन के द्वारा सेनीटाइजेशन किया जायेगा। श्रद्धालुओं के हाथ धुलवाये जायेंगे। नॉन बॉडी टच थर्मल स्क्रीनिंग मशीन से श्रद्धालुओं की स्क्रीनिंग की जायेगी। प्रति दो घंटे में श्रद्धालुओं के द्वारा स्पर्श होने वाली रेलिंग व अन्य स्थानों का सेनीटाइजेशन किया जायेगा। प्रवेश द्वार पर मेडिकल टीम की तैनाती भी की जायेगी।


श्रद्धालुओं को मास्क पहनना अनिवार्य


कोरोना महामारी को देखते हुए मन्दिर में दर्शन के लिये आये श्रद्धालुओं को मास्क पहनना अनिवार्य किया गया है। मन्दिर परिसर, मन्दिर के आसपास थूकना प्रतिबंधित है। कलेक्टर श्री आशीष सिंह ने 65 वर्ष से अधिक एवं 10 वर्ष से कम आयु के व्यक्तियों तथा गर्भवती महिलाओं को मन्दिर में न आने की अपील की है। श्रद्धालुओं से अपनी चरण पादुका, अपने वाहन या अन्य स्थान पर रखने की भी अपील की है। परम्परा का निर्वहन करने हेतु महाकाल मन्दिर में होने वाली त्रिकाल आरती, पूजन-अर्चन लॉकडाउन के दौरान यथावत रखी गई थी और आगे भी मन्दिर में होने वाली आरतियां समय अनुसार होंगी।


कलेक्टर ने मन्दिर में सेवा देने वाले कर्मचारियों को निर्देश दिये हैं कि वे श्रद्धालुओं की कतार में किसी भी श्रद्धालु को स्पर्श न करें। दूर से ही लाईन चलायें। कलेक्टर ने दान देने वाले दर्शनार्थियों से अनुरोध किया है कि वे दान दानपेटी में ही डालें। बैठक में महापौर श्रीमती मीना जोनवाल, पुलिस अधीक्षक श्री मनोज कुमार सिंह, महन्त श्री विनीत गिरीजी आदि ने अपने-अपने सुझाव दिये। बैठक के पूर्व श्री महाकालेश्वर मन्दिर प्रबंध समिति के प्रशासक एवं अपर कलेक्टर श्री एसएस रावत ने पॉवर पाइन्ट प्रजेंटेशन के माध्यम से भारत सरकार के गृह मंत्रालय की गाईड लाइन के अनुसार दर्शन व्यवस्था एवं आदि व्यवस्थाओं के बारे में विस्तार से जानकारी दी। बैठक में नगर निगम आयुक्त श्री क्षितिज सिंघल, एएसपी श्री रूपेश द्विवेदी, अतिरिक्त संचालक एवं संस्कृत महाविद्यालय के प्राचार्य श्री आरसी जाटवा, सहायक प्रशासक श्री प्रतीक द्विवेदी, सहायक प्रशासनिक अधिकारी श्री आरके तिवारी, सुरक्षा अधिकारी श्रीमती रूबी यादव आदि उपस्थित थे।        


                                      


Bkk News


Bekhabaron Ki Khabar - बेख़बरों की खबर


Bekhabaron Ki Khabar, magazine in Hindi by Radheshyam Chourasiya / Bekhabaron Ki Khabar: Read on mobile & tablets - http://www.readwhere.com/publication/6480/Bekhabaron-ki-khabar


Comments

मध्यप्रदेश खबर

नेशनल न्यूज़

Popular posts from this blog

कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति का उत्कृष्ट पुरस्कार

  उज्जैन : मध्यप्रदेश में नई शिक्षा नीति का सर्वप्रथम क्रियान्वयन करने पर जबलपुर में आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार में विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। एनवायरनमेंट एवं सोशल वेलफेयर सोसाइटी, खजुराहो एवं प्राणीशास्त्र एवं जैवप्रौद्योगिकी विभाग, शासकीय विज्ञान स्नातकोत्तर महाविद्यालय, जबलपुर के संयुक्त तत्वाधान में आयोजन दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन जबलपुर में किया गया। इस अवसर पर मध्य प्रदेश में नई शिक्षा नीति के सर्वप्रथम क्रियान्वयन के लिए विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षानीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय की प्रशासनिक कार्यकुशलता से आज विश्वविद्यालय नई शिक्षा का क्रियान्वयन करने वाला प्रदेश का पहला विश्वविद्यालय है। इस उपलब्धि के लिए विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ प्रशांत पुराणिक एवं कुलानुशासक प्रो शैलेन्द्र कुमार शर्मा ने कुलपति प्रो पांडेय के प्रति आभार व्यक्त करते हुए उन्हें हार्दिक

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर हुआ है। राकेश मुख्यतः आधुन

नरेश जिनिंग की जमीन पर मेडिकल कॉलेज खोलने के लिए विधायक श्री पारस चन्द्र जैन ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र

 ■ नरेश जिनिंग की जमीन पर मेडिकल कॉलेज खोलने के लिए विधायक श्री पारस चन्द्र जैन ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र ● विधायक ने उज्जैन जिला कलेक्टर को आवश्यक कार्यवाही करने के लिए लिखा पत्र   उज्जैन । भारत स्काउट एवं गाइड मध्यप्रदेश के राज्य मीडिया प्रभारी राधेश्याम चौऋषिया ने जानकारी देते हुए बताया कि, आज विधायक श्री पारस चन्द्र जैन जी ने मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री जी श्री शिवराज सिंह चौहान को एक पत्र लिखकर उनके द्वारा उज्जैन में मेडिकल कॉलेज खोलने की घोषणा किए जाने पर उज्जैन की जनता की ओर से बहुत बहुत धन्यवाद देकर आभार प्रकट किया गया । मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में विधायक श्री जैन ने लिखा कि, उज्जैन शहर के मध्य आगर रोड़ स्थित नरेश जिनिंग की जमीन को उज्जैन जिला प्रशासन द्वारा हाल ही में  अतिक्रमण से मुक्त करवाया गया है । इस जमीन का उपयोग मेडिकल कॉलेज हेतु किया जा सकता है क्योंकि यह शहर के मध्य स्थित है तथा इसी जमीन के पास अनेक छोटे-बड़े अस्पताल आते हैं । इसी प्रकार विनोद मिल की जमीन भी उक्त मेडिकल कॉलेज हेतु उपयोग की जा सकती हैं क्योंकि इसी जमीन के आसपास उज्जैन का शासकीय जिला चिकित्सालय, प्रसूतिग