Skip to main content

विक्रम संवत को राष्ट्रीय संवत् के रूप में स्वीकार करने के लिए प्रस्ताव सर्वानुमति से पारित

ग्राम डोंगला में 21 जून को होने वाली विशिष्ट खगोलीय परिघटना का अवलोकन किया विशेषज्ञों ने, जब छाया ने भी साथ छोड़ दिया

डोंगला वेधशाला में संवत् प्रवर्तक विक्रमादित्य और वृहत्तर भारत पर केंद्रित तीन दिवसीय अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठी का समापन हुआ

उज्जैन। विक्रमादित्य शोध पीठ, उज्जैन द्वारा इतिहास संकलन योजना, नई दिल्ली, विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन तथा मैपकास्ट, भोपाल के सहयोग से आयोजित त्रिदिवसीय अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठी एवं विचार समागम का समापन महिदपुर के समीप स्थित डोंगला ग्राम स्थित प्रसिद्ध वराहमिहिर वेधशाला में हुआ। संगोष्ठी में विक्रमादित्य के समय की काल गणना और विक्रम संवत पर देश के विभिन्न भागों से पधारे विद्वानों द्वारा  शोध पत्रों का वाचन किया गया। अध्यक्षता वरिष्ठ पुराविद डॉ जगताप पी डी, नागपुर ने की। कार्यक्रम में वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ राजेश शर्मा, विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलानुशासक प्रो शैलेंद्र कुमार शर्मा, प्राध्यापक डॉ अर्चना शुक्ला, नई दिल्ली, वरिष्ठ मुद्राशास्त्री डॉ आर सी ठाकुर, डॉ रमेश पंड्या, डॉ भगवतीलाल राजपुरोहित, डॉ सर्वेश्वर शर्मा आदि ने विषय से जुड़े विभिन्न पहलुओं पर प्रकाश डाला। कार्यक्रम का विषय प्रवर्तन डॉ रमण सोलंकी प्रभारी पुरातत्व संग्रहालय, विक्रम विश्वविद्यालय ने किया। समापन अवसर पर उपस्थित सौ से अधिक विशेषज्ञ, विद्वानों एवं उपस्थित जनों ने विक्रम संवत को राष्ट्रीय संवत् के रूप में स्वीकार करने का प्रस्ताव सर्वानुमति से पारित किया।

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ राजेश शर्मा ने कहा कि वर्तमान दौर में प्राचीन भारतीय कालगणना और आधुनिक युग में की गई खोजों और नवीन तकनीकी के बीच सामंजस्य स्थापित करने की आवश्यकता है। 

डॉ. आर.सी. ठाकुर, महिदपुर ने कहा कि पदमश्री डॉ. विष्णु श्रीधर वाकणकर ने विक्रमादित्य के काल निर्णय वाली मुद्राओं का उल्लेख किया है तथा ई.पू. प्रथम शताब्दी की स्वस्तिक युक्त मिट्टी की एक ऐसी मुद्रा का वाचन किया, जिस पर अंकित कतस उज्जेनीय विक्रमादित्य की प्रामाणिकता का महत्वपूर्ण साक्ष्य है। अनेक विद्वानों ने काशी हिन्दू विश्वविद्यालय में भी मालवानाम जयः लिखे हुये सिक्कों का समय ई.पू. प्रथम शताब्दी होना निश्चित किया है।

प्रो शैलेन्द्र कुमार शर्मा ने कहा कि भारत में कालगणना की परम्परा अनादिकाल से चली आ रही है। उज्जैन सुदूर अतीत से कालगणना का महत्वपूर्ण केंद्र रहा है। इसीलिए देश के विभिन्न भागों में प्रचलित पंचांगों में उज्जैन के समय को महत्व दिया जाता है। विक्रम संवत् राष्ट्रीय संवत् घोषित हो, उन्होंने इस पर जोर दिया। राजा जयसिंह ने भी उज्जैन में एक वेधशाला का निर्माण करवाया था।

डॉ रमेश पंड्या ने कहा कि राजा विक्रम की राजधानी उज्जैन तीर्थ क्षेत्र होने के साथ साथ कालगणना का महात्वपूर्ण केन्द्र रहा है। स्कन्दपुराण में कालचक्र प्रवर्तको महाकाल प्रतापनः लिखा है। भारत के मध्य में होने से इसे नाभि प्रदेश या मणिपुर भी कहा गया है। प्राचीन आचार्यों ने इसे शून्य रेखांश पर माना है, कर्क रेखा यहीं से होकर गुजरती है। यद्यपि अब इसका स्थान डोंगला है, इसी कारण कालगणना के लिये उज्जैन महत्वपूर्ण माना गया है।

डॉ. सर्वेश्वर शर्मा ने कहा कि विक्रमादित्य ने आक्रमणकारी शकों को समूल रूप से पराजित कर देश के बाहर खदेड़कर भारत के गौरव को बढ़ाया। इस विजय के बाद विक्रमादित्य को शकारि  की उपाधि से सम्मानित किया गया। इस विजय की स्मृति में ही महान विक्रमादित्य ने एक संवत् की शुरूआत की, जिसे विक्रम संवत् कहते हैं।

संगोष्ठी के दौरान दुनिया के अनेक देशों के विशेषज्ञ विद्वानों ने विक्रम संवत को राष्ट्रीय संवत् घोषित करने का आह्वान किया। इनमें डॉ जय वर्मा, यूके, डॉ रत्नाकर नराले, कैनेडा, श्री सुरेश चंद्र शुक्ल, ओस्लो, नॉर्वे, डॉ अंजली चिंतामणि, मॉरीशस आदि सम्मिलित थे।

इस अवसर पर उपस्थित जनों ने ग्राम डोंगला में 21 जून को होने वाली विशिष्ट खगोलीय परिघटना का अवलोकन किया। गुरुवार दोपहर 12.28 पर यह खगोलीय घटना हुई, जिसमें लोगों की परछाई साथ छोड़ गई। यह वही स्थान है जहाँ ग्रीष्मऋतु में अयन काल में 21 जून को सूर्य बिल्कुल सिर के ऊपर होता है और दोपहर 12:28 बजे सूर्य की किरणें भूमि पर 90 डिग्री का अंश करती हैं।

 परिणामस्वरूप अपनी छाया नहीं पड़ती है। 21 जून सूर्य 23 अंश 26 मिनिट उत्तरी अक्षांश पर कर्क राशि में प्रवेश करके उत्तरायण से दक्षिणायन में गमन करता है। इस कारण कर्क रेखा ग्राम डोंगला से होकर गुजरती है। ग्राम डोंगला वेधशाला पर छाया शून्य की स्थिति निर्मित हुई, जिसका परिचय शंकु यंत्र के माध्यम से विशेषज्ञ अधिकारी श्री घनश्याम रतनानी ने दिया।  

अतिथियों द्वारा मध्यप्रदेश विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद भोपाल द्वारा डोंगला में स्थापित मध्यप्रदेश के सबसे बड़े ऑप्टिकल टेलीस्कोप का अवलोकन किया गया। इससे खगोलीय घटनाओं का सूक्ष्मता से अध्ययन किया जाता है। डॉ भूपेश सक्सेना एवं प्रकल्प अधिकारी घनश्याम रतनानी ने वेधशाला में स्थित टेलिस्कोप, नाड़ी वलय यंत्र, शंकु यंत्र, भित्ति यंत्र, भास्कर यंत्र एवं सम्राट यंत्र का परिचय करवाया। 

कार्यक्रम का संचालन डॉ. प्रीति पाण्डे ने किया एवं आभार श्री आशीष नाटानी, इतिहास संकलन समिति द्वारा व्यक्त किया गया।

Comments

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

मालवी भाषा और साहित्य : प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा

MALVI BHASHA AUR SAHITYA: PROF. SHAILENDRAKUMAR SHARMA पुस्तक समीक्षा: डॉ श्वेता पंड्या Book Review : Dr. Shweta Pandya  मालवी भाषा एवं साहित्य के इतिहास की नई दिशा  लोक भाषा, लोक साहित्य और संस्कृति का मानव सभ्यता के विकास में अप्रतिम योगदान रहा है। भाषा मानव समुदाय में परस्पर सम्पर्क और अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है। इसी प्रकार क्षेत्र-विशेष की भाषा एवं बोलियों का अपना महत्त्व होता है। भारतीय सभ्यता और संस्कृति से जुड़े विशाल वाङ्मय में मालवा प्रदेश, अपनी मालवी भाषा, साहित्य और संस्कृति के कारण महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। यहाँ की भाषा एवं लोक-संस्कृति ने  अन्य क्षेत्रों पर प्रभाव डालते हुए अपनी विशिष्ट पहचान बनाई है। मालवी भाषा और साहित्य के विशिष्ट विद्वानों में डॉ. शैलेन्द्रकुमार शर्मा का नाम बड़े आदर से लिया जाता है। प्रो. शर्मा हिन्दी आलोचना के आधुनिक परिदृश्य के विशिष्ट समीक्षकों में से एक हैं, जिन्होंने हिन्दी साहित्य की विविध विधाओं के साथ-साथ मालवी भाषा, लोक एवं शिष्ट साहित्य और संस्कृति की परम्परा को आलोचित - विवेचित करने का महत्त्वपूर्ण एवं सार्थक प्रयास किया है। उनकी साह

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य