Skip to main content

उज्जैन जिला क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी ने जनता कर्फ्यू 17 मई तक बढ़ाये जाने की अनुशंसा की, निजी नर्सिंग होम में डॉक्टर्स की विजिटिंग फीस एवं ऑक्सीजन की दर पर नियंत्रण होगा

उज्जैन 06 मई। जिला स्तरीय क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी की बैठक आज कोविड प्रभारी मंत्री डॉ.मोहन यादव की अध्यक्षता में आयोजित की गई। बैठक में बढ़ते कोरोना संक्रमण के मद्देनजर जनता कर्फ्यू की अवधि 17 मई तक बढ़ाने की अनुशंसा की गई है। 7  मई से जनता कर्फ़्यू सख्ती से  लागू करने के लिए कहा गया है । साथ ही बैठक में निजी नर्सिंग होम द्वारा ऑक्सीजन चार्जेस 200 रुपये प्रतिघंटे एवं कंसल्टेंट डॉक्टर की विजिटिंग फीस एक से दो हजार रुपये प्रतिदिन लिये जाने पर नाराजगी व्यक्त करते हुए बैठक में मौजूद सभी जनप्रतिनिधियों ने कहा कि उक्त दरों पर नियंत्रण किया जाये, ताकि मरीजों से कोरोनाकाल में बेजा राशि नहीं वसूली जा सके। साथ ही कहा गया है कि प्रत्येक हॉस्पिटल के बाहर निर्धारित दर का डिस्प्ले भी किया जाये। बैठक में सांसद श्री अनिल फिरोजिया, विधायक श्री पारस जैन, कलेक्टर श्री आशीष सिंह, पुलिस अधीक्षक श्री सत्येन्द्र कुमार शुक्ल, नगर निगम आयुक्त श्री क्षितिज सिंघल, जिला पंचायत सीईओ श्री अंकित अस्थाना, स्मार्ट सिटी सीईओ श्री जितेन्द्र सिंह चौहान, श्री विवेक जोशी, श्री बहादुरसिंह बोरमुंडला मौजूद थे।


बैठक में जनता कर्फ्यू के दौरान डेयरी एवं दूधवालों का समय प्रात: 6 से 9 एवं शाम 6 से 8 तक ही निर्धारित करने एवं शादियों पर मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के निर्देश अनुसार प्रतिबंध लगाने का भी निर्णय लिया गया। साथ ही बैंक आदि में भीड़ कम करने के लिये उपाय एवं ऐसे शासकीय कार्यालय जिनका इस समय खुलना आवश्यक नहीं है, को भी 17 मई तक बन्द करने के लिये कहा गया है। बैठक में विभिन्न नर्सिंग होम द्वारा मरीजों से ऑक्सीजन मंगवाने पर भी नाराजगी व्यक्त की गई और इस सम्बन्ध में शिकायत होने पर सम्बन्धित हॉस्पिटल के विरूद्ध कड़ी कार्यवाही करने के लिये कहा गया है। बैठक में होम आइसोलेशन के अलावा सामान्य सर्दी, बुखार, खांसी के मरीजों के लिये टेलीमेडिसीन हेतु हेल्पलाइन नम्बर जारी करने का भी निर्णय लिया गया।


जनता कर्फ्यू का उल्लंघन करने वालों के विरुद्ध  सख्त कार्यवाही होगी, 7 मई से धारा 188 के तहत प्रकरण दर्ज होंगे एवं खुली जेल में भेजा जाएगा, कलेक्टर ने दिए निर्देश 

 उज्जैन 6 मई ।कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए संपूर्ण उज्जैन जिले में धारा 144 के तहत जनता कर्फ्यू लागू है ।किंतु यह देखा जा रहा है कि कई लोग बिना कारण के ही मोटरसाइकिल पर यहां वहां घूम रहे हैं और बहानेबाजी कर  रहे हैं ।इस कारण से कोरोनावायरस तेजी से फैल रहा है । कलेक्टर ने इस संबंध में सख्त हिदायत देते हुए अधिनस्थ इंसिडेंट कमांडर  ,स्पाट फाइन अधिकारी एवं पुलिस अधिकारियों को कहा है कि वे  7 मई से अकारण घूमने वाले व्यक्तियों पर धारा 188 की कार्रवाई करते हुए प्रकरण दर्ज करें एवं खुली जेल में भेजने की कार्रवाई करें।

       कलेक्टर ने निर्देश दिए  है कि कोरोना कार्य मे लगे  शासकीय सेवक ,   चिकित्सा कर्मी , औद्योगिक श्रमिकों , मेडिकल  इमरजेंसी व टीकाकरण  के अलावा बाहर निकलने वाले हर व्यक्ति के विरुद्ध  धारा 188 के तहत प्रकरण दर्ज किया जाए एवं खुली जेल में निरुद्ध किया जाए। कलेक्टर ने साथ ही आमजन से आह्वान किया है कि वे बिना कारण के घर के बाहर ना निकले और घर में ही रहकर कोरोना से सुरक्षित रहें ।  संक्रमण जिले में तेजी से फैल रहा है और इससे बचने का एक मात्र  उपाय  घर में रहना है।

Comments

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य

मालवी भाषा और साहित्य : प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा

MALVI BHASHA AUR SAHITYA: PROF. SHAILENDRAKUMAR SHARMA पुस्तक समीक्षा: डॉ श्वेता पंड्या Book Review : Dr. Shweta Pandya  मालवी भाषा एवं साहित्य के इतिहास की नई दिशा  लोक भाषा, लोक साहित्य और संस्कृति का मानव सभ्यता के विकास में अप्रतिम योगदान रहा है। भाषा मानव समुदाय में परस्पर सम्पर्क और अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है। इसी प्रकार क्षेत्र-विशेष की भाषा एवं बोलियों का अपना महत्त्व होता है। भारतीय सभ्यता और संस्कृति से जुड़े विशाल वाङ्मय में मालवा प्रदेश, अपनी मालवी भाषा, साहित्य और संस्कृति के कारण महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। यहाँ की भाषा एवं लोक-संस्कृति ने  अन्य क्षेत्रों पर प्रभाव डालते हुए अपनी विशिष्ट पहचान बनाई है। मालवी भाषा और साहित्य के विशिष्ट विद्वानों में डॉ. शैलेन्द्रकुमार शर्मा का नाम बड़े आदर से लिया जाता है। प्रो. शर्मा हिन्दी आलोचना के आधुनिक परिदृश्य के विशिष्ट समीक्षकों में से एक हैं, जिन्होंने हिन्दी साहित्य की विविध विधाओं के साथ-साथ मालवी भाषा, लोक एवं शिष्ट साहित्य और संस्कृति की परम्परा को आलोचित - विवेचित करने का महत्त्वपूर्ण एवं सार्थक प्रयास किया है। उनकी साह