Skip to main content

केरल, महाराष्‍ट्र, पंजाब, कर्नाटक, तमिलनाडु और गुजरात में कोविड के दैनिक नए मामलों में बढ़ोतरी का रुझान जारी

 

केरल, महाराष्‍ट्र, पंजाब, कर्नाटक, तमिलनाडु और गुजरात में कोविड के दैनिक नए मामलों में बढ़ोतरी का रुझान जारी

उचित आयु जनसंख्‍या समूहों के कोविड-19 टीकाकरण का अगला चरण आज से शुरू

पिछले 24 घंटों के दौरान 20 राज्‍यों/केन्‍द्र शासित प्रदेशों में कोविड के कारण किसी नए मरीज के मरने की जानकारी नहीं मिली

प्रविष्टि तिथि: 01 MAR 2021

देश के अनेक राज्‍यों में कोविड के दैनिक नए मामलों में बढ़ोतरी का रुझान जारी है। 6 राज्‍यों- महाराष्‍ट्र, केरल, पंजाब, कर्नाटक, तमिलनाडु और गुजरात में पिछले 24 घंटों के दौरान नए मामलों में बढ़ोतरी हुई है।

पिछले 24 घंटों में कोविड के 15,510 मामले दर्ज हुए हैं। महाराष्‍ट्र में कल सबसे अधिक 8,293 नए मामलों का पता चला है। केरल और पंजाब में कल क्रमश: 3,254 और 579 नए मामले सामने आए हैं।

87.25 प्रतिशत नए मामले 6 राज्‍यों से हैं।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image001EEXY.jpg

केन्‍द्र सरकार अधिक संख्‍या में सक्रिय मामले दर्शाने वाले और अधिक संख्‍या में कोविड के नए मामलों में बढ़ोतरी की जानकारी देने वाले राज्‍यों/ केन्‍द्र शासित प्रदेशों के साथ लगातार परामर्श कर रही है। राज्‍यों/ केन्‍द्र शासित प्रदेशों को कोविड-19 के प्रसार को रोकने के लिए लगातार कड़ी निगरानी करने की सलाह दी गई है। प्रभावी परीक्षण, व्‍यापक ट्रैकिंग, संक्रमित मामलों में तेजी से आइसोलेशन करने और ऐसे मरीजों के नजदीकी संपर्कों को जल्‍द–से-जल्‍द क्‍वारंटीन करने की जरूरत पर जोर दिया गया है।

आठ राज्‍यों में कोविड के दैनिक नए मामलों तेजी से बढ़ोतरी होने का पता चला है।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image002IGBJ.jpg

 

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image0039N6A.jpg

आज देश में सक्रिय मामलों की कुल संख्‍या 1,68,627 है। भारत में मौजूदा सक्रिय मामलों की संख्‍या कुल संक्रमित मामलों की केवल 1.52 प्रतिशत है। देश के कुल सक्रिय मामलों में पांच राज्‍यों की हिस्‍सेदारी 84 प्रतिशत है।

भारत के कुल सक्रिय मामलों में अकेले महाराष्‍ट्र का योगदान 46.39 प्रतिशत है। ऐसे मामलों में केरल का योगदान 29.49 प्रतिशत है।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image004FIJ4.jpg

21 राज्‍यों/ केन्‍द्र शासित प्रदेशों में 1,000 से कम सक्रिय मामलों की जानकारी मिली है। अरुणाचल प्रदेश में पिछले 24 घंटों के दौरान किसी सक्रिय मामले का पता नहीं चला है।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image005D2NH.jpg

15 राज्‍यों/केन्‍द्र शासित प्रदेशों में 1,000 से अधिक सक्रिय मामलों की जानकारी मिली है।

केरल और महाराष्‍ट्र ऐसे दो राज्‍य हैं जहां 10,000 से अधिक सक्रिय मामले दर्ज हैं, जबकि शेष 13 राज्‍यों/केन्‍द्र शासित प्रदेशों में सक्रिय मामलों की संख्‍या 1,000 से 10,000 के बीच है।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image006L45G.jpg

 

अभी तक 2,92,312 सत्रों के माध्‍यम से लाभार्थियों को कुल 1,43,01,266 वैक्‍सीन की खुराक दी गई है। इनमें 66,69,985 एचसीडब्‍ल्‍यू को दी गई पहली खुराक, 24,56,191 एचसीडब्‍ल्‍यू को दी गई दूसरी खुराक तथा 51,75,090 एफएलडब्‍ल्‍यू को दी गई पहली खुराक शामिल हैं।

कोविड-19 टीकाकरण का अगला चरण आज शुरू हुआ है। इस चरण में उन लोगों को टीके लगाए जाएंगे जिनकी आयु 60 वर्ष से अधिक है और 45 वर्ष या उससे अधिक आयु के उन लोगों को भी टीके लगेंगे जो विशिष्‍ट सह-रुग्णता की स्थिति से ग्रस्‍त है। पंजीकरण की एक सरल प्रक्रिया स्‍थापित की गई है जिसमें संभावित लाभार्थी के पास अग्रिम रूप से स्‍वयं पंजीकरण कराने, ऑनसाइट पंजीकरण या सुविधाजनक सह-पंजीकरण कराने का विकल्‍प होगा।

लाभार्थियों को पंजीकरण और टीकाकरण के लिए समय निश्चित करने के बारे में किसी भी जानकारी के लिए इस उपयोगकर्ता गाइड का अवलोकन करने की सलाह दी जाती है:

https://www.mohfw.gov.in/pdf/UserManualCitizenRegistration&AppointmentforVaccination.pdf

 

स्‍वास्‍थ्‍य और परिवार कल्‍याण मंत्रालय तथा राष्‍ट्रीय स्‍वास्‍थ्‍य प्राधिकरण की वेबसाइट पर टीका लगाने वाले सभी प्राइवेट अस्‍पतालों की एक सूची अपलोड की गई है। जानकारी के लिए ये वेबसाइट देखें:

ए) https://www.mohfw.gov.in/pdf/CGHSEmphospitals.xlsx  

बी) https://www.mohfw.gov.in/pdf/PMJAYPRIVATEHOSPITALSCONSOLIDATED.xlsx

 

अभी तक कोविड के 1.07  करोड़ (1,07,86,457) से अधिक मरीज ठीक हो गए हैं। पिछले 24 घंटों के दौरान 11,288 मरीज ठीक हुए हैं और उन्‍हें अस्‍पतालों से छुट्टी दी गई है। ठीक हुए 85.07 प्रतिशत नए मरीज 6 राज्‍यों से संबंधित हैं।

केरल में सबसे अधिक संख्‍या में 4,333 कोविड के मरीज ठीक हुए हैं। पिछले 24 घंटों के दौरान महाराष्‍ट्र और तमिलनाडु में क्रमश: 3,753 और 490 मरीज ठीक हुए हैं।

 

पिछले 24 घंटों के दौरान कोविड के 106 मरीजों की मौत हुई है। मौत के 86.79 प्रतिशत नए मामले पांच राज्‍यों से संबंधित हैं। महाराष्‍ट्र में कल सबसे अधिक 62 मौत के नए मामले दर्ज हुए जबकि कल केरल और पंजाब में क्रमश: 15 और 7 मरीजों की मौत हुई।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image008XXK1.jpg

पिछले 24 घंटों के दौरान 20 राज्‍यों/ केन्‍द्र शासित प्रदेशों में कोविड-19 से किसी भी मरीज की मृत्‍यु नहीं हुई है। इन राज्‍यों/केन्‍द्र शासित प्रदेशों के नाम इस प्रकार हैं- तेलंगाना, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, आंध्र प्रदेश, बिहार, हिमाचल प्रदेश, पुदुचेरी, असम, मणिपुर, सिक्किम, मिजोरम, नगालैंड, अरुणाचल प्रदेश, त्रिपुरा, लक्षद्वीप, मेघालय, लद्दाख, अंडमान एवं निकोबार द्वीप समूह, उत्तराखंड, दमन और दीव तथा दादरा और नगर हवेली।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image009OP9V.jpg

Comments

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य

मालवी भाषा और साहित्य : प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा

MALVI BHASHA AUR SAHITYA: PROF. SHAILENDRAKUMAR SHARMA पुस्तक समीक्षा: डॉ श्वेता पंड्या Book Review : Dr. Shweta Pandya  मालवी भाषा एवं साहित्य के इतिहास की नई दिशा  लोक भाषा, लोक साहित्य और संस्कृति का मानव सभ्यता के विकास में अप्रतिम योगदान रहा है। भाषा मानव समुदाय में परस्पर सम्पर्क और अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है। इसी प्रकार क्षेत्र-विशेष की भाषा एवं बोलियों का अपना महत्त्व होता है। भारतीय सभ्यता और संस्कृति से जुड़े विशाल वाङ्मय में मालवा प्रदेश, अपनी मालवी भाषा, साहित्य और संस्कृति के कारण महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। यहाँ की भाषा एवं लोक-संस्कृति ने  अन्य क्षेत्रों पर प्रभाव डालते हुए अपनी विशिष्ट पहचान बनाई है। मालवी भाषा और साहित्य के विशिष्ट विद्वानों में डॉ. शैलेन्द्रकुमार शर्मा का नाम बड़े आदर से लिया जाता है। प्रो. शर्मा हिन्दी आलोचना के आधुनिक परिदृश्य के विशिष्ट समीक्षकों में से एक हैं, जिन्होंने हिन्दी साहित्य की विविध विधाओं के साथ-साथ मालवी भाषा, लोक एवं शिष्ट साहित्य और संस्कृति की परम्परा को आलोचित - विवेचित करने का महत्त्वपूर्ण एवं सार्थक प्रयास किया है। उनकी साह