Skip to main content

पिछले 24 घंटों में 11.7 लाख से अधिक लोगों की कोविड जांच की गई, अबतक कुल 4.5 करोड़ से अधिक जांच हो चुकी है


भारत में कोविड-19 की प्रतिदिन जांच में अभूतपूर्व वृद्धि

पिछले 24 घंटों में 11.7 लाख से अधिक लोगों की कोविड जांच की गई

अबतक कुल 4.5 करोड़ से अधिक जांच हो चुकी है




date: 03 SEP 2020 11:59AM by PIB Delhi

 

पिछले दो दिनों से प्रति दिन 10 लाख से अधिक कोविड जांच के साथ देश में दैनिक दैनिक स्तर पर कोविड-19 मामलों की जांच में अभूतपूर्व वृद्धि देखी गई है।


पिछले 24 घंटों में 11.7 लाख (11,72,179) से अधिक जांच की गई। इस उपलब्धि के साथ, अबतक की गई कुल जांच की संख्या 4.5 करोड़ (4,55,09,380) से अधिक हो चुकी है।


यह देश में दैनिक कोविड जांच में तेज वृद्धि को दर्शाता है। इससे पहले 30 जनवरी तक प्रति दिन जहां केवल 10 जांच हो पाती थी वहीं  इसका दैनिक औसत आज 11 लाख से अधिक हो चुका है।



भारत में दैनिक स्तर पर कोविड जांच की संख्या दुनिया में सबसे अधिक है। व्यापक स्तर पर काफी लंबे समय तक निरंतर की जाने वाली ऐसी जांच रोग के प्रारंभिक निदान को सक्षम बनाती  है और इसके आधार पर रोगियों को अलग रखने और उन्हें अस्पताल में भर्ती करने की निर्बाध सुविधा प्रदान करती है। इससे अंततः मृत्यु दर में कमी आती है। जांच की संख्या में तेजी से कोविड पॉजिटिव मामलों में भी कमी आती है।   


जांच की संख्या में वृद्धि देश भर में नैदानिक प्रयोगशालाओं के नेटवर्क में तेज विस्तार से संभव हो पाई है। पूरे देश में इस समय 1623 प्रयोगशालाएं हैं। सरकारी क्षेत्र में 1022 और निजी क्षेत्र में 601 प्रयोगशालाएं हैं। इसमें निम्नलिखित प्रकार की प्रयोगशालाएं शामिल  है:


 •वास्तविक समय आरटी पीसीआर आधारित परीक्षण प्रयोगशालाएं: 823 (सरकारी: 465 + निजी: 358)


•ट्रूनेट आधारित परीक्षण प्रयोगशालाएं: 678 (सरकारी: 523 + निजी: 155)


•सीबीएनएएटी आधारित परीक्षण प्रयोगशालाएं: 122 (सरकारी: 34 + निजी: 88)


   इसके अतिरिक्त जांच की उन्नत तकनीक के लिए कोबास 6800/8800 सहित अत्याधुनिक उच्च थ्रूपुट मशीनें पांच स्थानों पर लगाई गई हैं जिनमें पटना का आईसीएमआर-राजेंद्र मेमोरियल रिसर्च इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज, कोलकाता का आईसीएमआर-नेशनल इंस्टीट्यूट फॉर कॉलरा एंड एंटरिक डिजीज, दिल्ली का राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र,मुंबई का आईसीएमआर-नेशनल इंस्टीट्यूट फॉर रिसर्च इन रिप्रोडक्टिव हेल्थऔर नोएडा का आईसीएमआर-नेशनल इंस्टीट्यूट फॉर कैंसर प्रिवेंशन एंड रिसर्च शामिल है। ये मशीनें न्यूनतम मानव हस्तक्षेप के साथ प्रति दिन लगभग 1000 कोविड नमूनों की जांच करने में सक्षम हैं।


आरटी-पीसीआर के साथ जांच क्षमता को धीरे-धीरे बढ़ाया गया है। पहले चरण में बड़े शहरों / शहरी क्षेत्रों को कवर करते हुए आरटी पीसीआर जांच प्रक्रिया को स्वर्ण मानक के रूप में इस्तेमाल किया गया है। इसके बाद दूसरे चरण में जिला स्तर पर मांग के अनुरुप निर्धारित अवधि मे जांच के लिए  आणविक नैदानिक जांच प्रक्रिया का इस्तेमाल हो रहा है। तीसरे चरण में कंटेनमेंट जोन और ऐसे अस्पतालों में जहां आणविक नैदानिक जांच की सुविधा उपलब्ध नहीं है, एंटीजन जांच प्रकिया अपनाने की सिफारिश की जाती है।


   कोविड-19 से संबंधित तकनीकी मुद्दों, दिशा-निर्देशों एवं परामर्शों पर सभी प्रामाणिक और अद्यतन जानकारी के लिए कृपया नियमित रूप से https://www.mohfw.gov.in/ और @MoHFW_INDIA देखें।


  कोविड-19 से संबंधित तकनीकी सवाल technicalquery.covid19@gov.in और अन्य सवाल ncov2019@gov.in एवं @CovidIndiaSeva पर भेजे जा सकते हैं।


  कोविड-19 को लेकर यदि कोई सवाल हो तो स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के हेल्पलाइन नंबर: + 91-11-23978046या 1075 (टोल-फ्री) पर कॉल करें। राज्यों / केंद्रशासित प्रदेशों के हेल्पलाइन नंबरों की सूची भी https://www.mohfw.gov.in/pdf/coronvavirushelplinenumber.pdf पर उपलब्ध है


Comments

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य

मालवी भाषा और साहित्य : प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा

MALVI BHASHA AUR SAHITYA: PROF. SHAILENDRAKUMAR SHARMA पुस्तक समीक्षा: डॉ श्वेता पंड्या Book Review : Dr. Shweta Pandya  मालवी भाषा एवं साहित्य के इतिहास की नई दिशा  लोक भाषा, लोक साहित्य और संस्कृति का मानव सभ्यता के विकास में अप्रतिम योगदान रहा है। भाषा मानव समुदाय में परस्पर सम्पर्क और अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है। इसी प्रकार क्षेत्र-विशेष की भाषा एवं बोलियों का अपना महत्त्व होता है। भारतीय सभ्यता और संस्कृति से जुड़े विशाल वाङ्मय में मालवा प्रदेश, अपनी मालवी भाषा, साहित्य और संस्कृति के कारण महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। यहाँ की भाषा एवं लोक-संस्कृति ने  अन्य क्षेत्रों पर प्रभाव डालते हुए अपनी विशिष्ट पहचान बनाई है। मालवी भाषा और साहित्य के विशिष्ट विद्वानों में डॉ. शैलेन्द्रकुमार शर्मा का नाम बड़े आदर से लिया जाता है। प्रो. शर्मा हिन्दी आलोचना के आधुनिक परिदृश्य के विशिष्ट समीक्षकों में से एक हैं, जिन्होंने हिन्दी साहित्य की विविध विधाओं के साथ-साथ मालवी भाषा, लोक एवं शिष्ट साहित्य और संस्कृति की परम्परा को आलोचित - विवेचित करने का महत्त्वपूर्ण एवं सार्थक प्रयास किया है। उनकी साह